Fri. Jun 21st, 2024

इंटरनेशनल फ्लाइट्स उड़ानों पर बढ़ी रोक, अब इस तारीख के बाद होगा फैसला

भारत के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण DGCA ने निर्धारित अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों पर प्रतिबंध 28 फरवरी, 2022 तक बढ़ा दिया। भारत वर्तमान में एक तीसरी कोविड लहर देख रहा है, जिसके बारे में दावा किया जा रहा है कि यह ओमिक्रोन संस्करण द्वारा संचालित है। डीजीसीए ने घोषणा की कि नियोजित विदेशी वाणिज्यिक उड़ानों पर प्रतिबंध 28 फरवरी, 2022 तक बढ़ाया जाएगा। “यह प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय ऑल-कार्गो संचालन या उन उड़ानों पर लागू नहीं होता है जिन्हें डीजीसीए ने विशेष रूप से अनुमोदित किया है।

दूसरी ओर, एयर बबल समझौते के तहत उड़ानें प्रभावित नहीं होंगी। नियोजित विदेशी वाणिज्यिक उड़ानों पर प्रतिबंध पिछले महीने नागरिक उड्डयन नियामक द्वारा 31 जनवरी, 2022 तक बढ़ा दिया गया था। भारत ने पहले कहा था कि नियमित वाणिज्यिक अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें कुछ शर्तों के अधीन 15 दिसंबर, 2021 को फिर से शुरू किया जाएगा।

1 दिसंबर, 2021 को हालांकि, डीजीसीए ने कहा था कि वह कोविड -19 के ओमिक्रोन संस्करण से उत्पन्न स्थिति को बारीकी से देख रहा है और यह कि लगभग सामान्य अंतरराष्ट्रीय उड़ान संचालन की वापसी पर अंतिम निर्णय परामर्श के बाद किया जाएगा। पिछले साल 23 मार्च को, भारत ने कोविड -19 के प्रसार को नियंत्रित करने और नियंत्रित करने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान प्रतिबंध की घोषणा की। बाद में कुछ देशों के साथ बायो बबल के समझौते के तहत उड़ान प्रतिबंधों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

दूसरी तरफ देश में दिसंबर, 2021 में लगभग 1.12 करोड़ घरेलू यात्रियों ने हवाई यात्रा की। यह संख्या नवंबर, 2021 की तुलना में 6.7 प्रतिशत अधिक है। नवंबर में 1.05 करोड़ लोगों ने हवाई यात्रा की थी। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने बुधवार को यात्रियों की मासिक संख्या का ब्योरा जारी करते हुए कहा कि बीते साल यानी 2021 के दौरान देश में कुल मिलाकर 8.38 करोड़ लोगों ने घरेलू उड़ानों के जरिये यात्रा की। वहीं 2020 में कुल 6.3 करोड़ घरलू यात्रियों ने हवाई सफर किया था।

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *